रविवार, 13 जनवरी 2013

कविता वही है ....

कविता वही
जो सांसों के साथ एकाकार हो जाये
जो किसी मुर्दा भाषा  की मोहताज़ न हो
जिसके लिए शब्दों को खोजते हुए
शमशानी एकांत में न उतरना पड़े .

कविता वही
जो किसी खुशबू की तरह चली आये
बिन बुलाए हँसती खिलखिलाती
जो किसी शैतान बच्चे की तरह
आ जाये घर में बिना अनुमति 
बिना पुकारे या कॉलबैल बजाये .

कविता वही
जिससे संवाद कायम करते हुए
किसी दुभाषिये की जरूरत कभी न हो
जो किसी एक की  नहीं सभी की हो
अपने समय को मुहँ चिढ़ाती
बिंदास .

कविता वही
जिसको नकारने की धृष्टता कोई न करे
जिसका रंग, रूप ,मजहब, जाति
कोई न पूछे
जो सारी वर्जनाओं और मर्यादाओं का
अतिक्रमण करती
चली आये ,कभी भी कहीं भी  .

ए कविता ! तेरा ही मुझे इंतजार है
और पक्का यकीन भी
तुम एक न एक दिन
और शायद रोजाना आओगी
मेरे पास ,बिलकुल आसपास .

मुझे पता है

मुझे पता है कि आसमान का रंग नीला है नीलेपन का यह कौन सा शेड है नहीं मालूम किसी बात के कुछ-कुछ पता होने से कुछ नहीं होता लेकिन ...