मंगलवार, 12 फ़रवरी 2013

तीन तिलंगे और लेखक



घुटन भरे अपने कमरे में
देश दुनिया से बेपरवाह
लेखक रंग रहा है
कागज दर कागज .

छापे खाने में पसीने में तरबतर
श्रमिक दे रहे हैं
लेखक के लिखे को
एक सुंदर आकार .

प्रकाशक किताबों के ढेर को थामे
खड़ा है नतमस्तक
कमीशनखोर की देहरी पर
खीसें निपोरता .

दीमकों को आ रही है
ताज़ा कागजों की गमक
उनकी भूख का इंतज़ार
अब खत्म होने को है .

कुछ ही देर में मुक्कमल हो जायेंगे 
महाभोज के सारे इंतजाम
जिसमें ये तीन तिलंगे जीमेंगे
अपने अपने हिस्से का माल .

लेखक अपनी धुन में ऐंठा है
ख्वाबों की हरी डाल पर बैठा है
हरदम मिटठू मिटठू करता है
जीते जी रोज ही मरता है .

सपने और सपने में फ़र्क

मेरी नींद के भीतर तमाम चिड़ियों को चोटिल करने के बाद एक थका हुआ बच्चा गुलेल को सीने पर टिका चैन की नींद सोता हौले से मुस्कराता...