रविवार, 11 अगस्त 2013

अगडम सगडम दिन



आदमी के भीतर पियानो
वीकेंड की फुरसत में बजता है
कभी कभी तन्हाई में
पैर थिरक उठते  हैं .
+++
वीकेंड के आने की आहट से
मन मोर बन कर नाचता है
कभी कभी इंतजार करती ऑंखें
मोर के पर नोच लेती हैं .
+++
हाथ में चाय का प्याला
और प्लेट भरी फुरसत
कभी कभी रुमानियत
भाप बन कर आती है .
+++
मुहँ अँधेरे भीतर कॉलबैल बजी है
बाहर खड़ा कोई पूछता है किसी का पता
कभी कभी इस पूछताछ में
खुद अपना पता खो जाता है .
+++
कल तो छुट्टी है
आज रात जम कर सोना है
कभी कभी इतनी -सी बात
रात भर सोने नहीं देती .
+++
घड़ी का अलार्म बज उठा
तब याद आया आज तो छुट्टी है
कभी कभो घड़ियाँ भी
कितनी बेरहम होती हैं .
+++

मंटो को याद करते हुए

रेत के बनते –बिगड़ते टीलों के इस तरफ एक मुल्क है ,एक मन्दिर है ठंडा पानी उगलता हैण्ड पम्प है दूसरी ओर भी ऐसा ही कुछ होगा गरम हव...